Friday, September 15, 2017

एसपीएस हॉस्पिटल कराएगा 30 सितंबर को "दिल की दौड़"

Fri, Sep 15, 2017 at 1:57 PM
मकसद लोगों के दिल की सेहत का सुधार 
लुधियाना: 15 सितम्बर 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::
सतगुरू प्रताप सिंह (एसपीएस) हॉस्पिटल की ओर से वल्र्ड हार्ट डे के उपलक्ष्य में 30 सितंबर को दिल की दौड़ नाम से मिनी मैराथन का आयोजन किया जाएगा। गुरू नानक देव स्टेडियम से शुरू होने वाली इस मिनी मैराथन के लिए आज से रजिस्ट्रेशन शुरू कर दी गई हैं।
शुक्रवार को आयोजित प्रेस कांफ्रेंस के दौरान हॉस्पिटल के एमडी जुगदीप सिंह ने बताया कि लुधियाना और पंजाब के लोगों को हेल्दी लाइफ का संदेश देने के लिए एसपीएस हॉस्पिटल की ओर से 10 किलोमीटर लंबी चौड़ी दौड़ का आयोजन किया जा रहा है। हर साल वल्र्ड हार्ट डे के आसपास यह कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। ताकि लोगों को बचाव इलाज से बेहतर है का संदेश देकर सेहतमंद रहने को प्रेरित किया जा सके।
हॉस्पिटल के डायरेक्टर जय सिंह ने बताया कि मिनी मैराथन के साथ ही एथलीटों को 400 मीटर व 800 मीटर की जैवलिन और शॉटपुट थ्रो का आयोजन भी होगा। ताकि शहर व पंजाब के एथलीटों को एक अच्छा मौका दिया जा सके। सीओओ डॉ. अजय अंगरीश ने कहा कि सोसायटी व संगठनों के सहयोग से यह कार्यक्रम और भी ज्यादा बेहतर हो जाता है। पिछले तीन सालों से हमें लोगों का भरपूर सहयोग मिल रहा है। इसी कारण हम लोग हर साल हेल्थ से संबंधित कार्यक्रम आयोजित कर पाते हैं।
सीनियर मार्केटिंग मैनेजर तेजदीप सिंह रंधावा ने बताया कि यह दौड़ 10 व 5 किलोमीटर के लिए होगी। दोनों दौड़ 30 सितंबर को सुबह 6 बजे गुरू नानक देव स्टेडियम से शुरू होगी। इसमें हिस्सा लेने के इच्छुक एथलीट एसपीएस हॉस्पिटल, शेरपुर चौक, एसपीएस डायलसिस सेंटर, मॉडल टाऊन व फव्वारा चौक के पास पैवेलियन माल के साथ-साथ 222.ह्यश्चह्य१०द्म.ष्शद्व पर भी रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। इस मौके पर मार्केटिंग मैनेजर गुरदर्शन सिंह मांगट भी मौजूद रहे।

Tuesday, September 12, 2017

रोहंगिया मुसलमानों का कत्लेआम सहन नहीं किया जाएगा:शाही इमाम

Tue, Sep 12, 2017 at 2:45 PM
लुधियाना में एक लाख से अधिक मुसलमानों का रोष प्रदर्शन
लुधियाना: 12 सितंबर 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):: 
बीते कई सप्ताह से म्यामार वर्मा में रोहंगिया मुसलमानों पर वहां की सरकार द्धारा किए जा रहे अमानवीय अत्याचारों के खिलाफ आज यहां पंजाब के शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी के आहवान पर शहर के एक लाख से अधिक मुसलमानों ने फील्ड गंज चौक स्थित जामा मस्जिद से डिप्टी कमिश्नर दफ्तर तक रोष मार्च निकाला और भारत के राष्ट्रपति माननीय श्री राम नाथ कोविंद के नाम डिप्टी कमिश्नर को ज्ञापन दिया। गौरतलब है कि आज सुबह से ही लुधियाना के विभिन्न इलाकों से हजारों की संख्या में मुसलमान जामा मस्जिद पहुंचना शुरु हो गए थे। प्रदर्शनकारियों ने अपने हाथ में ज्यादातर अंग्रेजी भाषा में लिखे पोस्टर उठा रखे थे जिन पर रोहंगिया मुसलमानों के नरसंहार को रोकने के साथ-साथ म्यामार की स्टेट कौंसलर व नोबल पुरस्कार प्राप्त आंग सांग सू ची के विरुद्ध नारे लिखे हुए थे।  इस मौके पर प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान ने कहा कि विश्व के इतिहास में अब तक कोई ऐसा नरसंहार नहीं हुआ जैसा कि इन दिनों म्यामार की जालिम सरकार और वहां के दंगाई एक साथ मिलकर कर रहे हैं। उन्होनें कहा कि हैरत की बात है कि विश्व समुदाय जो कि एक छोटी सी आतंकी घटना होने के बाद आसमान सिर पर उठा लेता है वह भी हजारों मुसलमानों के कत्लेआम पर खामोश है। उन्होनें कहा कि भारत सरकार ने हमेशा ही म्यामार को एक अच्छा देश बनाने के लिए पड़ोसी होने के नाते रंगून की मदद की है, को चाहिए कि इस नरसंहार के खिलाफ आवाज उठाए। शाही इमाम ने कहा कि बर्मा में हो रहे नरसंहार के बीच केंद्र सरकार की ओर से देश मे रह रहे चालीस हजार रोहंगिया रिफ्यूजियों को वापिस भेजे जाने की खबर ने सिसक रहे रोहंगियों के जख्म पर नमक का काम किया है। शाही इमाम ने कहा कि भारत का संविधान ही नहीं बल्कि इतिहास भी इस बात का साक्षी है कि हमनें हमेशा ही मुसीबत में शरण मांगने वालों को मना नहीं किया। शाही इमाम मौलाना हबीब ने कहा कि धर्म के नाम पर अन्याय और सियासत दोनों ही गलत है। उन्होनें कहा कि रोहंगियों का कत्लेआम हरगिज सहन नहीं किया जाएगा ये सिर्फ मुस्लिम समुदाय का नहीं बल्कि समूह इंसानियत को बचाने का विषय है। शाही इमाम ने कहा कि वहां जिस तरह बच्चों, औरतों और बूढ़ों का कत्ल किया जा रहा है वह सहन से बाहर है। वर्णनयोग है कि आज लुधियाना की जामा मस्जिद द्वारा एक फैक्स संदेश के जरिए संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एनटोनियो जूटै्रस, ओ.आई.सी (मुस्लिम देशों का समूह) के महासचिव डा. यूसुफ अल ओथम, मुस्लिम वल्र्ड लीग मक्का के महासचिव अबू अब्दुल्ला को भी ज्ञापन भेजा गया है। 

Sunday, September 03, 2017

ईद के मौके पर शाही इमाम पंजाब की सिंह गर्जना

धार्मिक आजादी पर प्रहार न करें भाजपा सरकारें
देश के लिए क़ुर्बानी दी है आत्म सम्मान के लिए भी देंगे
लुधियाना: 2 सितम्बर 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::
अच्छे दिनों के झांसों और जुमलेबाज़ी जैसे तजरुबों से आम जनता के सब्र को आज़मा रही सियासत के इस दौर में ईद का त्योहार एक संकल्प की तरह आया। शाही इमाम पंजाब ने इस स्थिति को समझते हुए सिंह गर्जना की कि हम इस सबसे निपटना भी जानते हैं।
आज यहां पंजाब की इतिहासिक जामा मस्जिद लुधियाना में हजारों मुस्लमानों में पंजाब के शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी की इमामत में ईद की नमाज अदा की। इस मौके पर जामा मस्जिद में ईद मिलन का राज्य स्तरीय समारोह भी आयोजित किया गया।
समारोह को संबोधित करते हुए शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान लुधियानवी ने कहा कि आज का दिन हमें अल्लाह तआला के नबी हजरत इब्राहिम की ओर से अपने रब का हुक्म मानते हुए दी गई कुर्बानी की याद दिलाता है। शाही इमाम ने कहा कि हम दुनिया को बताना चाहते है कि भारत के स्वतंत्रता संग्राम के समय जालीम अंग्रेज सरकार के खिलाफ सारी कौमों के साथ-साथ मुस्लमानों की ओर से दी गई कुर्बानियां इसी जज्बे की प्रेरणा थी। उन्होंने कहा कि आज भी भारत का मुस्लमान देश की रक्षा के लिए कुर्बान होने को तैयार है। शाही इमाम ने कहा कि देश में धर्म के नाम पर राजनीति करने वाले लोग इस बात को समझने की उनकी फिरकापरस्ती कभी कामयाब नहीं हो सकती क्योंकि भारत हमेशा ही धर्म निरपेक्ष देष रहा है। उत्तर प्रदेश व अन्य भाजपा शासित राज्यों में मुस्लिम धार्मिक रीति-रिवाजों पर की जा रही टिप्पणियों की विरोधता करते हुए शाही इमाम पंजाब मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी ने कहा कि धार्मिक आजादी पर प्रहार न करे भाजपा सरकारें, मुसलमानो ने देश के लिए कुर्बानियां दी है और किसी भी कीमत पर आत्म सम्मान पर आंच नहीं आने देंगे।  इस मौके पर मुस्लिम भाईचारे को संबोधित करते हुए सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि इस देश में ईद उल जुहा का त्यौहार सभी धर्मों के लोग मिल-जुल कर मनाते है। उन्होंने कहा कि पंजाब की इस धरती पर आज लाखों मुस्लमान खुदा के आगे सजदा कर रहे हैं यह हमारे लिए गर्व की बात है। 
समारोह को संबोधित करते हुए रवनीत बिट्टू ने कहा कि आज के दिन हमारे मुस्लमान भाई अल्लाह के नबी हजरत इब्राहिम की याद को ताजा करते हैं और अल्लाह के रास्ते में कुर्बानी करते है। उन्होंने कहा कि लुधियाना शहर की जामा मस्जिद वह ऐतिहासिक जगह है, जहां से स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के खिलाफ फतवा जारी किया गया था। लोक इंसाफ पार्टी के विपन सूद काका ने कहा कि पंजाब की धरती पीरों और पैगम्बरों की धरती है। यहां पर सभी धर्मों के लोग आपस में मिलजुल कर रहते है और एक-दूसरे का त्यौहार आपसी भाईचारे के रूप में मनाते है। 
इस मौके पूर्व कैबिनेट मंत्री हीरा सिंह गाबडिय़ा ने अपने मुस्लिम भाईयों को ईद की मुबारकवाद देते हुए कहा कि आज का दिन बड़ी ही बरकतों वाला दिन है। आज के दिन मुस्लमान अपने खुदा को राजी करने के लिए अल्लाह के रास्ते में कुर्बानी देते है। इस दौरान विधायक राकेश पांडे ने भी मुस्लिम भाईचारे को ईद की मुबारकवाद दी। इस मौके जिला कांग्रेस अध्यक्ष गुरप्रीत गोगी ने भी मुसलमानों को ईद की मुबारकवाद देते हुए कहा कि ईद का पवित्र त्यौहार हम सब कों अपने देश के प्रति कुर्बानी देने के लिए प्रेरित करता है। इस अवसर पर नायब शाही इमाम मौलाना मुहम्मद उसमान रहमानी लुधियानवी ने कहा कि मुस्लमान ईमान के जज्बे के साथ हर समय देश और कौम के लिए कुर्बानियां देते आ रहे हैं और यह सिलसिला चलता रहेगा। नायब शाही इमाम ने कहा कि मुस्लमान जिंदा कौम है और अपने वजूद से लेकर आज तक इस्लाम बढ़ता ही जा रहा है।
इस राज्य स्तरीय समारोह में अपने मुस्लिम भाईयों को ईद की मुबारकबाद देने के लिए विधायक भारत भूषण आशू, संजय तलवाड़, गुरूद्वारा दुख निवारण साहिब के मुख्य सेवादार प्रितपाल सिंह, पार्षद नरिन्द्र कुमार काला, अशोक पराशर पप्पी, पार्षद परमिंदर मेहता, पार्षद राकेश पराशर, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता बनवारी लाल, यूथ कांग्रेस लुधियाना के अध्यक्ष राजीव राजा,  गुलाम हसन कैसर, बलजीत सिंह बिन्द्रा, अशोक गुप्ता, शरनजीत सिंह मिड्डा, कारी अलताफ उर रहमान व शाही इमाम के मुख्य सचिव मुहम्मद मुस्तकीम ने कहा कि ईद उल जुहा का त्यौहार हम सब को आपसी भाईचारे और अपने देश के प्रति कुर्बानी देने के लिए प्रेरित करता है। वर्णनयोग्य है कि आज ईद उल जुहा के अवसर पर लुधियाना शहर में तीन दर्जन से अधिक स्थानों पर नमाज अदा की गई और भारी संख्या में लोगों ने कुर्बानियां कीं, बच्चों में ईद को लेकर बहुत जोश पाया जा रहा था।

Monday, August 28, 2017

डेरा प्रबंधन ने क़ुरबानी दस्ता भी बनाया था

सुरक्षा बलों की सर्तकता से नाकाम बनाया गया खतरनाक प्लान 
चंडीगढ़//रोहतक: 28 अगस्त 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):: 
अगर सुरक्षा बलों ने वक़्त पर स्थिति नहीं संभाली होती या फिर जाने अनजाने 25 अगस्त को दी गयी ढील दोहराई जाती बहुत बढ़े स्तर पर जानी नुक्सान हो सकता था। डेरा प्रबंधन ने इस मकसद के लिए बाकायदा क़ुरबानी दस्ते तैयार किये थे। इस क़ुरबानी दस्ते के लोग मरने मारने पर उतारू थे। इनको एक विशेष सुसाइड ड्रेस दी गयी थी। इसे पहनने के बाद पुलिस की लाठी का भी कोई असर नहीं होता क्यूंकि इसमें फोम लगी होती है। 
इस विशेष सुसाइड ड्रेस की लंबाई लगभग साढ़े पांच फीट है। यह एक बैग की तरह होती है। इस बैग के अंदर फोम लगी हुई है, जिसे पहनकर पुलिस की लाठी का भी असर नहीं होता है। देखने में यह रेनकोट लगता है। यदि इस प्लास्टिक बैग में पेट्रोल की दो बोतलें उड़ेल दी जाए तो फोम शरीर के चिपक जाती है। इसके बाद आग लगने पर केवल पांच मिनट में व्यक्ति की मौत हो सकती है।
क़ुरबानी दस्ता का विशेष निशाना रोहतक एरिया ही था। मीडिया सूत्रों के अनुसार इन बैग को पहनकर कुर्बानी दस्ते के सदस्यों को शहर में निकलना था। अगर जरूरत पड़ती तो सुसाइड जैसा कदम भी उठा सकते हैं। पुलिस प्रशासन ने इस मामले में कई लोगों को हिरासत में ले लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। रोहतक में डेरा समर्थकों ने कुर्बानी दस्ता तैयार किया है, जिसके सदस्य मारने-मरने में भी पीछे नहीं हटेंगे। कुर्बानी दस्ते में शामिल सदस्यों के सुसाइड बैग तैयार किए जाने की भी सूचना है। ऐसे ही 60-70 प्लास्टिक बैग खुफिया विभाग ने रोहतक-पानीपत नेशनल हाईवे पर बोहर फ्लाईओवर के पास डेरे के नामचर्चा घर से कुछ दूरी पर सड़क किनारे से बरामद किए हैं।
इन सूत्रों के अनुसार रोहतक में एक स्थान पर हुई डेरा समर्थकों की मीटिंग में यह जत्था भी शामिल हुआ था। यहां पर फैसला लिया गया कि जिस समय गुरमीत राम रहीम को लेकर सीबीआइ अदालत द्वारा सजा पर फैसला सुनाया जाएगा तो उसी समय दर्जनों लोग सुसाइड करेंगे। मीटिंग में यह भी तय हुआ कि यदि आत्महत्याएं जेल के गेट पर या फिर जेल के नजदीक हो तो बेहतर होगा। इसकी सूचना मिलते ही विभाग ने छापेमारी कर उक्त बैग बरामद कर लिए। इस तरह इस कोशिश को नाकाम बना दिया गया। यदि यह जत्था अपने इस नापाक काम में सफल हो जाता तो मानवीय संवेदना को कितनी ठेस पहुंचती इसका अनुमान लगाना मुश्किल नहीं होना चाहिए। 
इस संबंध में रोहतक स्थित थाना अर्बन इस्टेट के थाना प्रभारी देवेंद्र सिंह का कहना है कि रोहतक -पानीपत हाईवे पर बोहर गांव के समीप फ्लाइओवर के समीप प्लास्टिक बैग बरामद किए गए हैं। इन बैग को कब्जे में लेकर जांच पड़ताल की जा रही है। जहां बैग बरामद किए गए हैं, उसके समीप ही डेरा सच्चा सौदा का नाम चर्चा घर भी है। अंदाज़ा लगाइये कहाँ तक सोच रखा था डेरा प्रबंधकों ने। 

MSG: दोनों मामलों की सज़ा मिलकर 20 वर्ष की जेल

इस सज़ा के ऐलान से न खत्म होने वाली मुश्किलों की शुरुआत 
चंडीगढ़//सिरसा//रोहतक: 28 अगस्त 2017 (पंजाब स्क्रीन टीम)::
जैसी कि संभावना थी डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की सज़ा बढ़ कर अब 20 वर्ष हो गयी है। इससे पहले एक फैसले में केवल एक मामले की सजा सुनाई गयी थी। दोनों मामलों की सज़ा मिलकर अब 10+10=20 वर्ष हो गयी है। इसके साथ ही साध्वी यौनशोषण मामले में 30 लाख जुर्माने की सजा भी सुनाई गई है। इनमें से 14-14 लाख रूपये दोनों पीड़ित साध्वियों को दिए जायेंगे जबकि दो लाख रूपये अदालत के पास जमा होंगें। कैद-बामुश्कक्त की ये दोनों सज़ाएं गुरमीत राम रहीम को अलग-अलग काटनी होगी। डेरा प्रमुख के वकील एस के नरवाना ने भी इसकी पुष्टि की है। डेरा मुखी को धारा 376 और 506 के तहत सजा सुनाई गई है। उस पर तीन अलग-अलग धाराओं को लेकर 65 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। इस के बाद सियासी और समाजिक क्षेत्रों में यह मामला और गरमा गया है। अभी पत्रकार छत्रपति की हत्या का मामला भी बाकी है।  

गौरतलब है कि साध्वी यौन शोषण मामले में राम रहीम को 25 अगस्त को दोषी करार दिया गया था। सजा सुनाए जाने के बाद राम रहीम का कैदी नंबर चेंज होगा। अभी तक वह कैदी नंबर 1997 था। उसे अब कैदियों वाले कपड़े पहनने होंगे। उसे जेल मैनुअल के हिसाब से काम भी करना होगा। अभी उसका मेडिकल किया जा रहा है। जेल में सफाई का काम पूरा करने  मिला करेगी रोटी। बेबस महिलाओं को लंगर से खाना न देने की धमकी देने वाले सिस्टम के मुखी गुरमीत राम रहीम को  कर्मों का हिसाब जेल की इस दुनिया में देना होगा।  भोलेभाले लोगों को अगले-पिछले जन्म के चक्क्रों में उलझा कर अपने शोषण का शिकार बनाने वाले बाबा का हिसाब अब इसी दुनिया में हो रहा है। 

डेरा मुखी राम रहीम के पास अब सजा के खिलाफ अपील करने के लिए हाईकोर्ट जाने का विकल्प है। आज समय कम होने के कारण वह एेसा नहीं कर पाएगा, लेकिन बहुत संभव है कल वह हाई कोर्ट में अपील दायर करे। इस बीच हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मंत्रियों, मुख्य सचिव, गृह सचिव और पुलिस महानिदेशक की बैठक बुलाई है। इसमें कानून व्यवस्था को लेकर चर्चा होगी। अब देखना है की हालात का ऊँट किस करवट बैठता है। 

डेरा विवाद के चलते हालात में कई बार आया उतराव चढ़ाव

Mon, Aug 28, 2017 at 5:59 PM

पटड़ी पर चढ़ती विवस्था फिर पटड़ी से उकरी, गिरे शटर
भदौड़: 28 अगस्त 2017: (विजय जिंदल//पंजाब स्क्रीन)::  
गत चार दिनों से कर्फयु का संताप भोग रहे क्षेत्र वासी व्यापारी व दुकानदारों जो कि पहले ही मंदी की मार झेल रहे हैं उनकी हालत लगातार कभी धूपकभी छाँव कि बनी हुई है। आज सोमवार को जब बाद दोपहर डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम सिंह को सजा सुनाई जानी है वही कर्फयु के दौरान दी गई ढील के चलते सोमवार को शहर में उस समय अफरा तफरी का माहौल बन गया जब सिविल प्रशासन व्दारा जिले में कर्फ्यू लागू किए जाने और दुकानें बद करने के आदेश सुनाई दिए। 
सूचना के बाद देखते ही देखते दुकानों के शटर गिर गए और एक बार फिर व्यवस्था की गाड़ी पटड़ी से उतरती दिखाई दी। इसके बाद कुछ समय बाद ही पुलिस प्रशासन द्वारा अनाउंसमेंट कर दुकानें खोलने की जानकारी दी गई परंतु लोगों में व्याप्त सहम के चलते बाजार बंद रहे और धारा 144 की धज्जीयां उड़ाते लोग झुंड बनाकर ताश आदि खेलते और बातें करते दिखाई दिए। व्यापारी राजेश जिंदल, संदीप कुमार, राजीव सिंगला हैपी गोयल, सुखविंद्र पाल, मुनीश कुमार आदि ने कहा कि एक तो पहले ही दहशत का माहौल बना हुआ है और उपर से सरकारी सूचना की अनाउंसमेंट होने से लोगों में फिर से सहम माहौल पाया जा रहा है। स्थिति ये है कि कर्फ्यू के दौरान बाजार खुलवाने और बंद करवाने को लेकर सिविल व पुलिस प्रशासन आमने-सामने हो गया लगता है।

डेरा हिंसा को रोकने भदौड़ में भी रही सख्त सुरक्षा

Mon, Aug 28, 2017 at 5:59 PM
पुलिस ने कहा: हर कीमत पर ला एण्ड आर्डर बहाल रहेगा
डेरा सलाबतपुरा में भारी सुरक्षा
भदौड़: 28 अगस्त 2017: (विजय जिंदल//पंजाब स्क्रीन)::
आज जैसे ही डेरा सच्चा सौदा सिरसा के प्रमुख बाबा गुरमीत राम रहीम सिंह को सीबीआई कोर्ट द्वारा सजा सुनाए जाने का समय नजदीक आता जा रहा था वैसे-वैसे लोगों की उत्सुकता भी बढ़ती दिखाई दे रही थी। भय, सहम  और आतंक के मिश्रित से भाव तकरीबन हर चेहरे पर थे। जैसे ही हरियाना के सिरसा जिले में दो जगह आगज़नी  समाचार प्राप्त हुआ तभी भदौड़ क्षेत्र में भी सुरक्षा का घेरा मजबूत होने लगा। इसी दौरान पुलिस जिला बरनाला के एसपी (एच) सुरिंद्रपाल सिंह व डीएसपी(एच) जगदीश विश्रनोई ने भदौड़ में आकर स्थिति का जायजा लिया। इस दौरान संवाददाताओं से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि क्षेत्र में किसी भी प्रकार की अनहोनी को रोकने के लिए सुरक्षा बल मुशतैदी से तैनात हैं और किसी भी व्यक्ति को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जाएगी इसके अलावा उन्होंने कहा कि हर कीमत पर ला एण्ड आर्डर की स्थिति को बहाल रखा जाएगा। इस अवसर पर नायब तहसीलदार हरपाल सिंह, मार्कीट कमेटी के सचिव जसवंत सिंह, पुलिस थाना भदौड़ के प्रभारी प्रगट सिंह आदि उपस्थित थे। उनके इस दौरे से लोगो ने सुख की सांस ली।